Tags

, , , ,


पेशावर. पाकिस्तान के फाटा इलाके में महिलाओं की हालत बहुत ज़्यादा खराब है। पाकिस्तान के इस बेहद अशांत इलाके में महिलाओं की हालत का अंदाजा इसी बात से लगाया जा सकता है कि दाल और तेल जैसी रोजमर्रा की मामूली चीजों के बदले कैंपों में रह रहीं महिलाओं को सेक्स के लिए मजबूर किया जाता है।

फेडरली एडमिनिस्टर्ड ट्राइबल एरिया यानी फाटा में कबिलाई महिलाओं का आतंकवादी और सुरक्षा कर्मी-दोनों शोषण कर रहे हैं। ख्वेंदो कोर (बहन के घर का पश्तो भाषा में अनुवाद) नाम के मानवाधिकार संगठन ने फाटा में ‘महिलाओं और लड़कियों पर संकट का असर’ शीर्षक से रिपोर्ट तैयार की है।

इस रिपोर्ट में शोषण और दमन की कई कहानियां शामिल हैं। इन्हीं में से एक में बताया गया है कि फाटा के एक शिविर में रह रही काशमाला बीबी नाम की महिला अपने बच्चे को दूध पिला रही थी। तभी पांच आतंकी उसके शिविर में घुस आए और महिला के स्तन के टुकड़े-टुकड़े कर दिए। आतंकियों में शामिल एक शख्स ने वहां मौजूद दूसरी महिला को स्तन के टुकड़े खाने को कहा।

खैबर पख्तूनख्वा के आईडीपी शिविरों में रह रहीं महिलाओं की हालत सभ्य समाज के लिए शर्मनाक है। फाटा के नहकाई और जालोजी नाम के शिविरों में महिलाओं की हालत का अंदाजा एक महिला के बयान से लगाया जा सकता है। जालोजी शिविर में रहने वाली 22 साल की निगत के मुताबिक, ‘शिविर के मुख्य द्वार पर जब मैं तेल और दाल लेने गई थी, तब एक सुरक्षा अधिकारी ने इन चीजों के बदले मेरे साथ सेक्स किया।’

ख्वेंदो कोर की रिपोर्ट में यह भी बताया गया है कि फाटा में झूठी शान के नाम पर हत्याओं के मामले भी बहुत बढ़ गए हैं। इनमें ज़्यादातर मामलों में पहले महिलाओं के साथ बलात्कार किया जाता है। चूंकि, इस इलाके में बलात्कार को परिवार की शान के खिलाफ माना जाता है, इसलिए उनकी हत्या कर दी जाती है। जबर्दस्ती शादी, कबीलों में महिलाओं की अदला-बदली, झूठी शान के लिए हत्या और चचेरे भाई-बहनों के बीच शादियों से अपंग पैदा होने वाले बच्चों के चलते इस इलाके में महिलाओं की ज़्यादा निर्भर बना दिया है।

इस इलाके में महिलाओं को सिर्फ जुल्म का ही नहीं सामना करना पड़ता है। बल्कि उन्हें इंसाफ के लिए लंबा फासला तय करना पड़ता है। इस इलाके में महिलाओं को ‘जिरगा’ के जरिए ही इंसाफ की मांग की इजाजत है। फाटा इलाके में महिलाएं सीधे कोर्ट में अपील नहीं कर सकती हैं। जिरगा ही तय करता है कि किसी भी मामले में महिलाएं कैसे आगे बढ़ें।

http://www.bhaskar.com/article/INT-horrors-of-sexual-abuse-in-conflict-stricken-fata-2733726.html?HF-9%2F

***********************************************************************

ईशनिंदा की दोषी पाकिस्तानी महिला का गला घोंटने कोशिश

‘वॉर्डन ही घोंट रही थी मेरा गला, करना चाहती थी हत्या’

इस्लामाबाद. पाकिस्तान में ईश निंदा के आरोप में मौत की सजा पाने वाली आशिया बीबी ने बताया है कि जेल वार्डन ने उनकी गला घोंटकर हत्या करने का प्रयास किया था। यह जानकारी उसने मसीही फाउंडेशन को दिए एक इंटरव्यू में दी।

अल्पसंख्यकों के अधिकारों के लिए काम करने वाले क्रिश्चियन फाउंडेशन को आशिया ने बताया कि महिला जेल वार्डन का उससे विवाद हो गया था इसके बाद उसने उसका गला दबाने की कोशिश की। इस घटना की वजह से वार्डन को निलंबित कर दिया गया है। आशिया ने बताया, ‘जेल अधिकारियों को डर था कि मुझे खाने में जहर दिया जा सकता है। इसलिए मुझे कच्ची खाद्य सामग्री उपलब्ध कराई जाती है। इसके बाद मैं अपना खाना खुद ही बनाती हूं।’ गौरतलब है कि इससे पहले ईशनिंदा के अन्य आरोपियों को खाने में जहर देकर मारा जा चुका है।

आशिया का कहना है कि जेल में उन्हें एक सीमित सेल में रखा गया है। इससे वे एक दिन में केवल तीस मिनट के लिए ही बाहर निकल सकती हैं। हर मंगलवार को उन्हें एक घंटे अपने परिजनों से मिलने की इजाजत मिलती है। आशिया बीबी को पिछले साल ईश निंदा का दोषी मानते हुए मौत की सजा सुनाई थी। हालांकि उन्होंने इन आरोपों को गलत बताया। राष्ट्रीय और अंतरराष्ट्रीय स्तर पर विरोध के बाद कोर्ट ने उनके मामले फिर सुनवाई शुरू की है।

अब तक 11 को मौत की सजा

आधिकारिक आकंड़ों के अनुसार पाकिस्तान के पंजाब प्रांत में 131 लोग ईश निंदा कानून के तहत जेल में बंद हैं। इनमें से आशिया समेत 11 लोगों को मौत की सजा सुनाई जा चुकी है। आशिया पहली महिला हैं, जिन्हें यह सजा मिली है।

http://www.bhaskar.com/article/INT-asia-bibi-discloses-dark-secrets-of-pakistan-jails-2685595.html?LHS%2F