यह बात तो सब जानते है कि भारत के मुसलमान “वन्दे मातरम “का विरोध करते हैं .उनका तर्क है की , वह अल्लाह के सिवा किसी की स्तुति या वंदना नहीं कर सकते है .यह इस्लाम केविरुद्ध है.ऐसा उनका तर्क है .भारत में लगभग 19370 मदरसे चल रहे हैं ,और सबको सरकार से मदद मिलाती है .लेकिन आपने आजतक किसी मदरसे में नहीं देखा होगा कि 26 जनवरी और 15 अगस्त जैसे राष्ट्रिय पर्वों पर वहां सम्मान पूर्वक राष्ट्र ध्वज फहराया गया हो ,और राष्ट्र गान गाया गया हो .मुसलमान इसे गुनाह मानते हैं .कुछ समय पूर्व एक फतवा पढ़ने को मिला था ,जिसमे ,लोगों ने मुल्लों से पूछा था कि ,क्या राष्ट्र गान गाना और राष्ट्र ध्वज का सम्मान करना इस्लाम में जायज है ?उत्तर के रूप में जो फतवा दिया गया है ,उसके मुख्य अंश हिंदी और अंगरेजी में दिए जा रहे हैं .साथ में कुरान कि उन आयतों ,और हदीसों के अरबी में हवाले भी दिए जा रहे हैं ,जिनके अधर पर इसे हराम करार दिया गया .
यह फतवा गुरुवार दिनांक -23 दिसंबर 2010 को “फतवा अल जन्नाह अल दायमा “ने जारी किया है ,जिसे ई मेल से भारत भेजा गया था .

111877 -Thu 17/1/1432 – 23/12/2010 Basic Tenets of Faith

Respect for the national anthem or flag” احترام النشيد الوطني او العلم”

What is the ruling on standing when the national anthem is played, or when the flag is saluted?.

Praise be to Allaah.- الحمد لله .

Firstly:
पहिली बात यह है कि ,राष्ट्र गान को गाना और सुनना हराम है !
Playing or listening to national anthems is haraam.
This has been discussed in the answer to question no. 5000 and 20406. It makes no difference whether what is played is songs or the national anthem or anything else.

सवाल संख्या 5000 और 20406 पर विमर्श के बाद तय किया कि चाहे राष्ट्र गान हो ,या कोई और उस से कोई फर्क नहीं होता .

Secondly:
दूसरी बात यह है कि , विनम्रता से खड़ा होना है ,जो सर्फ अल्लाह के लिए ही होना चाहिए

Standing by way of humility and veneration is not befitting unless it is done for Allaah.

الدائمة عن طريق التواضع والتعظيم لا يليق إلا إذا تم القيام به من أجل الله

Allaah says (interpretation of the meaning):
“And stand before Allaah with obedience”
इस आयत में स्पष्ट किया गया है कि ,”अल्लाह के आगे पूरे भक्ति और विनय भाव से खड़े हो” .सूरा -बकरा 2 :238

والوقوف بين يدي الله مع طاعة

al-Baqarah 2:238].

और जिस दिन रूह और फ़रिश्ते पंक्तिबद्ध होकर खड़े होंगे ,वे बोलेंगे नहीं ,सिवाय उस व्यक्ति के ,जिसे रहमान अनुज्ञा दे दे .
Allaah has said that because of His greatness and majesty, the greatest of creation (the angels) will stand for Him on the Day of Resurrection and no one will speak until after Allaah has given him permission. He says (interpretation of the meaning):

“The Day that Ar‑Rooh [Jibreel (Gabriel)

يَوْمَ يَقُومُ الرُّوحُ وَالْمَلَائِكَةُ صَفًّا لَّايَتَكَلَّمُونَ إِلَّا مَنْ أَذِنَ لَهُ الرحْمَنُ وَقَالَ صَوَابًا

[al-Naba’ 78:38].

जो कोई किसी अल्लाह के द्वारा पैदा की गयी किसी भी चीज के आगे खड़े होकर वैसा आदर प्रकट करे ,जिसका हक़ सिर्फ अल्लाह को है ,तो रसूल ने कहा जो भी किसी मनष्य के आगे खड़ा होगा तो उसका स्थान जहन्नम में होगा .

The one who claims that there is any created being for whom one should stand out of respect have given that created being one of the rights of Allaah.
Hence the Prophet (peace and blessings of Allaah be upon him) said:
“Whoever likes men to stand up for him, let him take his place in Hell.”

“من يحب الرجال على الوقوف له ، فليتبوأ مقعده من النار

Narrated by al-Tirmidhi (2755);

classed as saheeh by al-Albaani in Saheeh al-Tirmidhi. That is because this is part of the might and pride that belongs only to Allaah.

وذلك لأن هذا هو جزء من القوة والعزة التي ينتمي فقط إلى الله تعالى

See: Tafseer al-Tahreer wa’l-Tanweer by al-Taahir ibn ‘Ashoor (15/51).
जब खलीफा अल महदी रसूल की मस्जिद में दाखिल हुए तो उनके आदर में सब खड़े हो गए ,सिवाय इमरान इब्न अबी जई के .लोगों ने कहा खड़े हो जाओ यह अमीरुल मोमिनीन हैं ,उन्होंने कहा लोगों को सिर्फ दुनिया के मालिक के आगे खड़ा होना चाहिए .तुम चाहे मेरे बाल पकड कर मुझे खड़ा कर लो .

The caliph al-Mahdi entered the Mosque of the Messenger of Allaah (peace and blessings of Allaah be upon him) and the people all stood up for him except Imam Ibn Abi Dhi’b. It was said to him: Stand up; this is the Ameer al-Mu’mineen. He said: The people should only stand up for the Lord of the Worlds.

Al-Mahdi said: Let him be, for all the hairs of my head have stood on end.
Siyar A’laam al-Nubala’ (7/144).
The scholars of the Standing Committee were asked: Is it permissible to stand to show respect to any national anthem or flag?

They replied: فلا يجوز للمسلم أن يقف احتراما لأي النشيد الوطني أو العلم

सलमानों को यह इजाजत नहीं है कि राष्ट्र ध्वज के आगे खड़े होकर उसका आदर करें और राष्ट्रगान गायें ,चाहे उस समारोह में राष्ट्रपति भी क्यों न हो .

It is not permissible for the Muslim to stand out of respect for any national anthem or flag, rather this is a reprehensible innovation which was not known at the time of the Messenger of Allaah (peace and blessings of Allaah be upon him) or at the time of the Rightly-Guided Caliphs (may Allaah be pleased with them), and it is contrary to perfect Tawheed and sincere veneration of Allaah alone. It is also a means that leads to shirk and is an imitation of the kuffaar in their reprehensible customs, and following them in their exaggeration about their presidents and in their ceremonies. The Prophet (peace and blessings of Allaah be upon him) forbade imitating them.

فلا يجوز للمسلم أن يقف احتراما لأي النشيد الوطني أو العلم، بل هو من البدع المنكرة التي لم تكن معروفة في عهد رسول الله صلى الله عليه وعليه وسلم) أو في زمن الخلفاء الراشدين رضي الله عنهم)، وأنها منافية لكمال التوحيد والتبجيل خالص لله وحده. وهي أيضا وسيلة تؤدي إلى الشرك وتشبها بالكفار في عادتهم القبيحة ، ومجاراة لهم في غلوهم نظرهم حول رؤسائهم واحتفالات. وقد نهى النبي صلى الله عليه وس ”

And Allaah is the Source of strength; may Allaah send blessings and peace upon our Prophet Muhammad and his family and companions. End quote.
Fataawa al-Lajnah al-Daa’imah فتاوى اللجنة الدائمة آل
(1/235).

والله أعلم

And Allaah knows best.
यही कारण है कि ,मुसलमानमें राष्ट्र भक्ति का आभाव है ,और वे राष्ट्रगान और तिरंगा का आदर नहीं करते .मुसलमानों का रिमोट मुल्लों के हाथों

में होता है .यह खुराफाती मुल्ले चुपचाप फतवों से उनको भड़काते रहते हैं .लेकिन जब चाहे अपने अधिकारों कि बात करते रहते हैं .और हमारी सरकारें वोट कि खातिर उनके लिए खजाने खोल देती है .

सही बात है ,मुसलमान जिसका खाते हैं ,उसी को खा जाते हैं !