मुहम्मद का उदेश्य लोगों को मानवता सिखाने ,अध्यात्मिक उन्नति करना ,लोगों की भलाई करने का नहीं था .बल्कि इस्लाम का विस्तार करने का था .ताकि पूरे विश्व पर हुकूमत की जा सके .इस्लाम में औरतों का मुख्य स्थान है ,जिहादी औरतों के लिए युद्ध करते थे .औरतें खरीदते थे ,औरतें इनाम में मिलती.यहाँ तक कुरान में मौत के बाद में भी औरतें देने का लालच दिया गया है .अरब छोटी छोटी बच्चियों से वासना पूर्ति करने के शौक़ीन होते हैं .मुहम्मद भी एक अरब था ,उसने भी एक छोटी सी बच्ची आयशा से शादी की थी .लेकिन मुहम्मद ने हद तो तब करदी जब खुद अपने ससुर उमर खत्ताब की शादी अपनी सगी नातिनी (grand daughter ) उम्मे कुलसुम से करवा थी .ताकि इस्लाम फ़ैल सके .यह बात सभी प्रमाणिक हदीसों में मौजूद हैं .इसी के बारे में विस्तार में जानकारी दी जा रही है .लेख में अरबी से साथ अंगरेजी भी दी गयी है .हिंदी अनुवाद मैंने किया है .इस लेख के मुख्य व्यक्ति उमर खत्ताब और उम्मे कुलसुम हैं .
1 -उमर खत्ताब عمر خطّابUmar Khattab .
उमर कुरैश कबीले का सरदार था .और काफी धनवान था .उमर का जन्म सन 580 में मक्का में हुआ था .इसका पूरा नाम “उमर इब्न अल खत्ताब इब्न नुफैल इब्न अब्दुल उज्जा عمر ابن الخطاب ابن نفيل ابن عبد العزي”था उस समय मुहम्मद का प्रभाव बढ़ रहा था .लोग मुहमद को रसूल कहने लगे थे .जब सन 619 में मुहम्मद की पहली पत्नी खदीजा की मौत हो गयी तो मुहम्मद को शादियाँ करने का शौक हो गया .इसलिए उमर ने अपनी लड़की हफ्शा की शादी मुहम्मद से करा दी .हफ्शा का जन्म सन 607 में हुआ था .वह मुहम्मद की पांचवीं पत्नी थी मुहम्मद और हफ्शा सन की शादी सन 625 को हुई थी .इस तरह उमर मुहम्मद का सगा ससुर था .हदीसों से इसके प्रमाण मिलते हैं –
अबू दाऊद-किताब 2 हदीस 2448 ,इब्ने माजा-किताब 3 हदीस 2086 और सही मुस्लिम -किताब 2 हदीस 2642
उमर सुन्नी मुसलमानों का दूसरा खलीफा माना जाता है .मुहम्मद उमर के माध्यम से इस्लाम फैलाना चाहता था .और उसे “फारूक आजम “की उपाधि दे दी थी .लेकिन शिया लोग उमर को शराबी ,अय्याश ,बच्चियों से वासना पूर्ति करने वाला ( Pedophil ) मानते हैं ,और उमर पर लानत भेजते हैं .उमर ने सन 641 में फारस के एक शहर निहावंद (Nihawand ) पर हमला किया था .और हमले में सैकड़ों औरतों और मर्दों को गुलाम बना लिया था .जिनको अपने लोगों में बाँट दिया था ,और बेच दिया था .उन्हीं गुलामों एक “फीरोज उर्फ़ अबू लू लू فيروز عرف ابو لولو”था जो एक लुहार था .लू लू ने बदला लेने के लिए सन 644 में उमर की हत्या कर दी .उमर सन 634 से 644 तक खलीफा बना रहा .
यद्यपि उमर शादीशुदा था .फिर भी छोटी बच्चियों पर बुरी नजर रखता था .एक बार उसकी नजर अली की छोटी पुत्री “उम्मे कुलसुम “पर पड़ी ,जो गुड़ियों से खेल रही थी .उमर उस बच्ची को हासिल करने की योजना बनाने लगा .
2 -उम्मे कुलसुमامّكلثوم Umme Kulthum
उम्मे कुलसुम मुहम्मद की लड़की फातिमा की बेटी थी .यानि मुहमद की नातिनी ( Grand Daughter ) थी ,मुहम्मद ने अपनी पुत्री फातिमा की शादी सन 623 में अपने ही चचेरे भाई “अली बिन अबू तालिबعلي بن ابوطالب “से करा दी थी .उम्मे कुलसुम अली औरفاطمه फातिमा की चौथी संतान थी .उसका जम सन 628 या हिजरी सन 6 में हुआ था .अली और फातिमा के चार बच्चे हुए ,हसन (625 ),हुसैन (626 ),जैनब और उमे कुलसुम .यानि कुलसुम सबसे छोटी थी .कुलसुम की माँ फातिमा जा जन्म सन 605 में हुआ था और मौत सन 632 में हुई थी .उसी साल मुहम्मद की मृत्यु हुई थी .अर्थात यह घटना उस समय की है ,जब मुहम्मद जिन्दा था ,
कुलसुम कब्र सीरिया के शहर दमिश्क में “बागे सगीर باغ سغير”नामकी जगह में है .बोहरा मुस्लिम वहां जियारत करते हैं .शादी के बाद उम्मे कुलसुम का एक लड़का भी हुआ था जिसका नाम “जैद बिन उमर زيد بن عمر”था
.उमर और उम्मे कुलसुम की शादी कैसे हुई थी इसके बारे में बताया जा रहा है –
3 -उमर षडयंत्र
इस्लाम में आयु और रिश्तों का कोई महत्त्व नहीं होता ,केवल संतान पैदा करना जरुरी माना गया है .इस्लाम में 9 साल की बच्ची से 56 साल के बुढ्ढे की शादी को जायज बताया गया है .कुरान के अनुसार आदम की संतानों ने अपनी सगी बहिनों से शादी की थी जिस दिन उमर की नजर उम्मे कुलसुम पर पड़ी थी ,उसी दिन से वह अली और फातिमा से कुलसुम का हाथ मांगने लगा था .और शादी के लिए तरह तरह के तर्क देने लगा था .अली और फातिमा सीधे थे और उमर मक्कार था .उमर ने अली से कहा –
उमर ने अली से कहा कि मैं रसूल का सहाबी (Companion ( हूँ ,मैं चाहता हूँ कि हमारी रिश्तेदारी और पक्की हो जाये .
umar said i have had companionship of prophet i would like also have this kinship

قال عمر لقد كان النبي الرفقة وأود أيضا أن هذه القرابة
Tabaqat al-Kubra (vol. 8 p. 338,
4 -अली ने उमर को फटकारा
जब उमर ने अली से उम्मे कुलसुम से उसकी शादी का प्रस्ताव रखा तो अली को बड़ा गुस्सा आया ,उस समय उम्मे कुलसुम एक छोटी सी बच्ची थी .अली ने उमर से कहा –
“अली ने उमर से कहा अगर तुम मुसलमानों के खलीफा नहीं होते तो ,इस बात के लिए मैं तुम्हारे मुंह पर थूक देता ”
If it hadn’t been the fact that you were Khalifa of the Muslims I would have spat in your face”.

واضاف “اذا لم يكن حقيقة ان كنت خليفة للمسلمين ولقد بصق في وجهك”.
Al Isaba Volume 4 page 492
5 – उमर का दबाव और अली का गुस्सा
पहले तो अली को उमर की इस बात से बड़ा क्रोध आया ,लेकिन उमर ने दुसरे सहाबियोंसे अली पर दबाव डलवाया तो अली विवश हो गया .और अपनी पुत्री कुलसुम को खलीफा का दरबार देखने के लिए भेज दिया .-
अबू उम्र ने कहा कि जुबैर बाकरी ने यह घटना इस तरह बयान की है “,जब उमर अली के पास उसकी लड़की का हाथ मांगने को गया तो .अली ने कहा अभी मेरी बच्ची काफी छोटी है .लेकिन जब उमर ने बार बार आग्रह किया तो ,अली राजी हो गए .फिर अली ने लड़की को एक दुपट्टा देकर कहा अगर लड़की तुम्हें पसंद कर लेगी तो मैं मान जाऊँगा .जब लड़की उमर के महल में गयी तो उमर ने उस से कहा तुम अपने पिता से कहो कि वह इस रिश्ते को स्वीकार कर लें .फिर जब लड़की उमर के पास बैठी तो उमर उसकी जांघों पर हाथ फिराने लगा .इस से लड़की क्रोधित होकर चिल्ला कर बोली तुम मेरे साथ ऐसा व्यवहार करते हो .अगर तुम खलीफा नहीं होते तो मैं तुम्हारी नाक तोड़ देती .लड़की रोते हुए घर वापस आगई .और अली को सारी बातें दुहराते हुए बोली कि अपने मुझे ऐसे गंदे आदमी के पास भेज दिया .लेकिन अली ने कहा वह तम्हारेभावी पति है ”
” يروي أبو عمر على سلطة بكري الزبير، ‘سأل عمر عن يد ابنة علي ، فأجاب أنها كانت صغيرة جدا. سألت عمر أكثر مرتين. وقال علي “أنا فتاة يرسل لك، إذا كنت مثلها من يقول” أنا أقبل ”. علي ثم ترسل الفتاة بقطعة قماش وأخبرها أن أقول [لعمر] ‘وهذا هو الحجاب الذي كنت أتحدث عنه”. وأعربت هذه الكلمات لعمر، الذي قال “أخبر والدك أن أوافق”. ثم تطرق عمر العجل الفتاة. فتساءلت “أنت لم تفعل بي هذا؟ إذا لم يكن من لحقيقة أنك خليفة للمسلمين كنت قد كسر أنفك. ذهبت الفتاة المنزل وكررت الحلقة إلى والدها، وذكرت أنت أرسلتني إلى رجل كريه “، مع أن علي قال” إنه زوجك ”

Abu Umar narrates on the authority of Zubayr Bakri, ‘Umar asked for the hand of Ali’s daughter, who replied that she was too young. ‘Umar asked twice more. ‘Ali said ‘I shall send the girl to you, if you like her than say ‘I accept”. ‘Ali then sent the girl with a cloth and told her to say [to ‘Umar] ‘This is the scarf that I was talking about’. She conveyed these words to ‘Umar, who said ‘Tell your father that I accept’. Umar then touched the girl’s calf. She exclaimed ‘You have done this to me? If it hadn’t been for the fact that you are Khalifa of the Muslims I would have broken your nose’. The girl went home and repeated the episode to her father, stating ‘You sent me to a foul man’, with that ‘Ali said ‘He is your husband’.”

Asad al Ghaybah Volume 5 page 367
6 -उमर ने अली को लालच दिया
जब उमर ने अली से उम्मे कुलसुम का हाथ माँगा था और कहा कि अभी मेरी बच्ची छोटी है .तब उमर ने कहा तुम अगर किसी तरह से शादी करा दो तो मैं उम्मे कुलसुम को इतना ऊंचा पद दूंगा जो किसी को भी नहीं मिलेगा .तब अली ने एक शाल उढ़ाकर कुलसुम को उमर के पास भेज दिया .और कहा अगर मेरी बच्ची मान जाये तो मुझे कोई आपत्ति नहीं होगी .लेकिन जब उम्म्मे कुलसुम उमर के पास गयी तो उमर ने उसे पकड़ लिया .नाराज होकर उम्मे कुलसुम बोली मुझे लगता है तू खलीफा नहीं है .वर्ना तू मेरे साथ ऐसा व्यवहार नहीं करता .लड़की ने यह बात पिता से कई और कहा अपने मुझे एक चरित्र हीन व्यक्ति के पास क्यों भेजा ,जब उमर को यह खबर मिली तो उसने सभी मुहाजिरों को जमा कर लिया और बोला तुम मुझे बधाई दो .जब लोगों ने कारण पूछा तो उमर बोला आज मैंने अली कि लड़की उम्मे कुलसुम से निकाह कर लिया है .
“سأل عمر علي ليد كلثوم. فأجاب علي أنها كانت صغيرة جدا. وقال عمر الزواج منها لي وافعل كما أقول لك لأني أتمنى أن يصل إلى هذا الموقف الذي لا أحد آخر قد يتحقق. علي ثم قال : “كنتترسل كلثوم Umme لك. إذا كنت مثلها ثم يتزوجها أعطي لكم “. علي ثم ترسل الفتاة بقطعة قماش وأخبرها أن أقول [لعمر] ‘وهذا هو الحجاب الذي كنت أتحدث عنه”. وأعربت هذه الكلمات لعمر، الذي قال “أخبر والدك أن أوافق”. ثم تطرق عمر العجل الفتاة. انها مصيح ، “لقد فعلت هذا لي؟ إذا لم يكن من حقيقة أن كنت خليفة للمسلمين كنت قد كسر أنفك. ذهبت الفتاة المنزل وكررت الحلقة إلى والدها، وذكرت أنت أرسلتني إلى رجل كريه “، مع أن علي قال” إنه زوجك. عمر ثم حضر جمع من المهاجرين، وقال “يهنئون لي’. وقالوا : لماذا؟ وقال “لقد تزوجت كلثوم عليبنت”.
“‘Umar asked Ali for the hand of Umme Kalthum. ‘Ali replied that she was too young. ‘Umar said ‘Marry her to me and do as I say for I wish to attain to that position which no one else has attained. ‘Ali then said, ‘I shall send Umme Kalthum to you. If you like her then I shall marry her to you.’ ‘Ali then sent the girl with a cloth and told her to say [to ‘Umar] ‘This is the scarf that I was talking about’. She conveyed these words to Umar, who said ‘Tell your father that I accept’. Umar then touched the girl’s calf. She exclaimed, ‘You have done this to me? If it had not been the fact that you were Khalifa of the Muslims I would have broken your nose’. The girl went home and repeated the episode to her father, stating ‘You sent me to a foul man’, with that ‘Ali said ‘He is your husband’. Umar then attended a gathering of the Muhajireen and said ‘Congratulate me’. They said ‘Why?’ He said ‘I have married Umme Kalthum binte ‘Ali.'”
Al Istiab Volume 4 page 467:
7 -अली को शादी के लिए दबाव डाला गया
उमर हर हालत में अली की बच्ची से शादी करना चाहता था .जब अली ,और उम्मे कुलसुम ने ने इंकार कर दिया तो उमर ने एक चाल चली ,
“जब उमर ने अली सेउसकी लड़की हाथ माँगा तो ,अली ने कहा अभी मेरी लड़की तो बच्ची है .उमर निराश हो गया और मस्जिद के मिम्बर पर चढ़ कर चिल्ला कर बोला .मुझे अली ने निराश कर दिया .लेकिन मुझ से रसूल ने कहा था कि जब क़यामत के दिन सभी के खानदानों के वंश नष्ट हो जायेंगे तो सिर्फ मेरा वंश ही बचा रहेगा .इसीलिए मैं अली के वंश को बचाना चाहता हूँ .यह सुन कर अली ने उम्मे कुलसुम को एक दुलहन कि तरह सजा कर उमर के पास भेज दिया ,जैसे ही लड़की उमर के सामने गयी उमर ने उसे बांहों में लेकर चूमा और उस पर दुआओं कि बरसात कर दी .जब लड़की जाने लगी तो उमर ने उसके टखने पकड़ लिए और कहा तुम अपने पिता से वचन लो कि वह इस शादी के लिए राजी हो जाएँ .
जब वापस आकर लड़की ने अपने पिता से यह बात कही तो रसूल कि बात मानकर अली शादी के लिए राजी हो गया .
“سألت عمر عن يد ابنة ‘علي. فأجاب علي أنها صغيرة جدا. عمر جعل في النهاية علي اليأس، وكان [عمر] صعد المنبر معلنا “والله، لقد جعلت علي يائسة كما سمعت رسول الله (ق) ويقول انه في يوم القيامة عن شجرة العائلة وقطعت لي حفظ هذه من بلادي الأسرية “. من أوامر “كان علي اعدادهم ثم كلثوم وإرسالها إلى عمر. حصل عندما رآها عمر، حتى ، أخذها في حضنه، قبلها، وأغ عليهامّ كلثوم على بلدها. أمسك عندما نهض لمغادرة والكاحل وقالامّ كلثوم لها : قولي لأبيك أن وأنا على استعداد “. تزوج علي عندما عاد الى بلاده وقال والدها حول ما حدث، لها عمر ”
“Umar asked for the hand of ‘Ali’s daughter. ‘Ali replied that she is too young. Umar eventually made ‘Ali desperate, and he [Umar] climbed the pulpit declaring ‘By Allah, I have made ‘Ali desperate as I heard Rasulullah (s) say that on the Day of Judgement all family trees shall me severed save those of my family’. By the orders of ‘Ali Umme Kalthum was then groomed and sent to Umar. When Umar saw her, he got up, took her in his lap, kissed her, and showered blessings on her. When she got up to leave, he grabbed her ankle and said, ‘Tell your father that I am willing’. When she returned home and told her father about what had transpired, Ali married her to Umar”.

Sawaiqh al Muhriqa page 280 and Asaaf al Ghaneen page 162
8 -आखिर अली शादी के लिए राजी हो गया
जब उमर ने अली से शादी के लिए बीबी कुलसुम का हाथ माँगा तो .अली ने कहा हे मुसलमानों के सरदार अभी तो मेरी बेटी दूध पीती है .लेकिन उमर बोला तुम झूठ कहते हो .मुझे टाल रहे हो .तब अली ने कुलसुम को बुलाया और उसे नहला कर एक शाल उढ़ाकर उमर के पास यह कहा कि खलीफा कहते है कि वह मेरे परिवार का बहुत सम्मान करते है .फिर जब लड़की उमर के पास गयी तो उमर बोला अल्लाह तुम अपर और तुम्हारे पिता पर आशीर्वाद देगा .तुम पिता को इस शादी के लिए राजी कर लो .लड़की जब वापस ई तो पिता से बोली कि खलीफा ने शाल को खोलकर नहीं देखा .सिर्फ मुझे घूरता रहा. यह सुन कर अली ने उमे कुलसुम की शादी उमर से करा दी .बाद में उनका एक लड़का “जैद”भी पैदा हुआ था .

“ردت علي : يا أمير المؤمنين، فهي تتغذى حليب الأطفال. الذي أجاب عمر، ‘والله! هذا ليس صحيحا. كنت تسعى لتجنب لي ‘
Umar asked Imam Ali for the hand of Bibi Umme Kalthum (as) in marriage, to which Ali replied, ‘O Commander of the Faithful, she is a milk fed child’. To which Umar replied, ‘By Allah! That is not true. You are seeking to avoid me’. ‘ Ali therefore ordered that Umme Kalthum have a bath and then wear a shawl. ‘Ali told her to go to the Khalifa, ‘give him my regards and ask him if he likes the shawl, he can keep it, other wise, he should return it’. When she came to Umar, he said, ‘May Allah bless you and your father, I like it’. Hence Umme Kalthum came back to her father and told her that Umar did not open the shawl but just looked at me. Ali married her to Umar and they had a child named Zayd.

Tabaqat ibn Sa’d Volume 8 page 464 Dhikr Umm Kalthum
9 -उमर और उम्मे कुलसुम की शादी जायज थी ?
उमर के द्वारा उम्मे कुलसुम को आलिंगन करना और चूमना हराम नहीं है ,कि वह कम उम्र की थी .लेकिन किशोर लड़की के साथ ऐसा कामकरने की इजाजत नहीं है
عمر أفعال من المعانقة والتقبيل كلثوم ليست حراما لأنها كانت تحت السن القانونية، ومثل هذه الأعمال مسموح بها ليست الحال مع امرأة المراهقين ”

‘Umar’s actions of embracing and kissing Umme Kalthum are not haraam as she was underage and such actions are permissible as is not the case with an adolescent woman”

Sawaiqh, Page 94, Ibn Hajr al Makki
10-उमर और कुलसुम की शादी कैसे हुई ?
याद रखिये शादी के समय उमर की आयु 58 साल और उम्मे कुलसुम की आयु केवल 11 साल थी .और अगर शिया लोगों की बात मने तो शादी के समय उम्मे कुलसुम की आयु केवल 5 -6 साल की थी .फिर भी लोगों ने इस बेमेल शादी को इसलिए जायज ठहरा दिया था ,क्योंकि उमर ने इस शादी के लिए “मेहर “के रूप में 40 ,000 (चालीस हजार ) दिरहम दिए थे .आज भी मुसलमान रुपयों के लिए अपनी लड़कियाँ आमिर अरबों को बेच देते हैं .और मुल्ले इसे जायज बता देते हैं .
मुसलमान अपने कुकर्मों पर परदा डालने के लिए दूसरों को गालियाँ देते रहते हैं .लेकिन उनके कुकर्मों का भंडा खुद उनकी किताबो से फूट जाता है .मुहम्मद से लेकर खलीफा ,सहाबी और मुल्ले सभी अय्याश और बच्चियों से सम्भोग करने के शौक़ीन (pedophil ) थे .यह एक उदहारण है .ऐसे कई सबूत दिए जा सकते है .मुसलमानों की आदत है कि अपने कुकर्मों को जायज बताने के लिए कुरान की किसी आयात और हदीस या फतवे का सहारा लेते है .यही परंपरा आज तक चल रही है .
वास्तव में इस्लाम मानवता के लिए एक अभिशाप है .
http://www.answering-ansar.org/answers/umme_kulthum/en/chap2.php

http://answering-islam.org/Shamoun/prepubescent3.htm